देश में कोरोना महामारी को देखते हुए बालाजी धाम का डिजिटलीकरण करने में सहयोग करें। बहुत कम घर से निकलें और वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन दर्शन और प्रसाद व दान का लाभ उठाएं !

Mangal Dosh Nivaran Balaji Puja

Mangal Dosh Nivaran Puja

मंगल दोष निवारण हेतु पूजा

मंगल दोष निवारण पूजा का लाभ

  • पूजा ग्रह के हानिकारक प्रभावों को कम करने में शत प्रतिशत सहायक है !
  • पूजा विशिष्ट समय पर पैदा होने के साथ आने वाले दाने के व्यवहार को कम करती है !
  • पूजा व्यक्तिगत जीवन में आने वाली बाधाओं से छुटकारा पाने में सहायक होती है !
  • भविष्य की समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए मंगल का आशीर्वाद पूजा के माध्यम से ही प्राप्त होता है !
  • पूजा शारीरिक रोगों से मुक्ति दिलाती है !
  • मंगल दोष निवारण के लिए पूजा करने से घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है !

विवरण

मंगल के पहले, चौथे, सातवें, आठवें या बारहवें भाव में होने पर मंगल दोष का प्रभाव गंभीर हो जाता है। मुख्य रूप से यह दोष विवाह के बाद प्रभाव में आता है एक अशांत और अराजक वैवाहिक जीवन मंगल दोष का एक स्पष्ट कारण है ! क्योकि एक इन्सान के पास कोई और तरीका नहीं है जिससे मंगल दोष का पता लगाया जा सके ! विवाह के बाद ही इस दोष का मुख्य रूप से पता लगाया जा सकता है ! मंगल दोष गहरा होने पर पति की जगह लेने की कोशिश करता है ! इसलिए यह इंसानों में आक्रामकता भी दिखाता है।

कभी-कभी इसका प्रभाव इतना दमदार होता है कि दाम्पत्य जीवन में विघटन की स्थिति भी आ जाती है। शास्त्रों में वर्णित है कि मांगलिक व्यक्ति का विवाह मांगलिक व्यक्ति से ही करना बेहतर होता है। जिससे यह दोष कम हो जाता है। अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो दिक्कतों का सामना करना तय है

मंगल दोष का प्रभाव

  • लग्न में यह स्थिति होने पर जातक का स्वभाव बहुत तेज, क्रोधी और अहंकारी होता है !
  • चतुर्थ भाव में मंगल जीवन में सुखों को नहीं आने देता है और पारिवारिक जीवन में कठिनाइयां कम होने का नाम नहीं लेती है !
  • मंगल के सप्तम भाव में होने से वैवाहिक संबंधों में मुश्किलें आती हैं !
  • अष्टम भाव में स्थित मंगल से विवाह के सुख में कमी आती है, ससुराल पक्ष के सुख में कमी आती है या ससुराल पक्ष से संबंध खराब हो जाते हैं !
  • बारहवें भाव में मंगल जीवन में संकट, शरीर में कमी, आयु, रोग, तथा कलह को उत्पन करता है ! भूमि से संबंधित काम करने वालों को मंगल दोष सबसे अधिक प्रभावित करता है

कुंडली के बिना मंगल दोष कैसे पता करें

  • वह मंगल दोष से पीड़ित व्यक्ति हैं। जिसकी आँख या मुँह बंद न हो। और सीधे देखने पर आंखों का कॉर्निया ऊपर की ओर होता है !
  • यदि कोई व्यक्ति रक्त संबंधी रोग से पीड़ित है। और अगर आपके घर में बिजली से चलने वाले संसाधन अधिकतर खराब होते रहते हैं, तो आपको समझना चाहिए कि आप पर भारी मंगल दोष है !